लोकमंथन के माध्यम से नवउदारवाद, वैश्वीकरण के मौजूदा दौर में राष्ट्रीयता का देशज तैयार करने की योजना – जे. नंदकुमार जी

‘राष्ट्र सर्वोपरि’, विचारकों एवं कर्मशीलों का राष्ट्रीय विमर्श ‘लोकमंथन’ का आयोजन भोपाल में नई दिल्ली. लोकमंथन, देश में पहली बार एक ऐसा आयोजन हो रहा है, जो जयपुर में हर साल आयोजित होने वाले अंग्रेजीदा लिटरेरी महोत्सव से एकदम अलग… Continue Reading

08 जुलाई / इतिहास स्मृति – टाइगर हिल पर फहराया तिरंगा

नई दिल्ली. पाकिस्तान अपनी मजहबी मान्यताओं के कारण जन्म के पहले दिन से ही भारत विरोध का मार्ग अपनाया है. जब भी उसने भारत पर हमला किया, उसे मुंह की खानी पड़ी. ऐसा ही एक प्रयास उसने 1999 में किया, जिसे ‘कारगिल युद्ध’ कहा जाता है.… Continue Reading

07 जुलाई / जन्मदिवस – शौर्यपूर्ण व्यक्तित्व राव हमीर

रणथम्भौर नई दिल्ली. भारत के इतिहास में राव हमीर को वीरता के साथ ही उनके हठ के लिए भी याद किया जाता है. उनके हठ के बारे में कहावत प्रसिद्ध है – सिंह सुवन, सत्पुरुष वचन, कदली फलै इक बार, तिरिया तेल… Continue Reading

06 जुलाई / जन्मदिवस – नारी जागरण की अग्रदूत वन्दनीय मौसीजी (लक्ष्मीबाई केलकर)

नई दिल्ली. बंगाल विभाजन के विरुद्ध हो रहे आन्दोलन के दिनों में छह जुलाई, 1905 को नागपुर में कमल नामक बालिका का जन्म हुआ. तब किसे पता था कि भविष्य में यह बालिका नारी जागरण के एक महान संगठन का… Continue Reading

05 जुलाई / पुण्यतिथि – हंसकर मृत्यु को अपनाने वाले अधीश जी

नई दिल्ली. किसी ने लिखा है – तेरे मन कुछ और है, दाता के कुछ और. संघ के अखिल भारतीय प्रचार प्रमुख अधीश जी के साथ भी ऐसा ही हुआ. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के लिए उन्होंने जीवन अर्पण किया, पर विधाता ने 52 वर्ष… Continue Reading

03 जुलाई / पुण्यतिथि – विरक्त सन्त: स्वामी रामसुखदास जी

नई दिल्ली. धर्मप्राण भारत में एक से बढ़कर एक विरक्त सन्त एवं महात्माओं ने जन्म लिया है. ऐसे ही सन्तों में शिरोमणि थे परम वीतरागी स्वामी रामसुखदेव जी महाराज. स्वामी जी के जन्म आदि की ठीक तिथि एवं स्थान का… Continue Reading

2 जुलाई / जन्मदिवस – सत्रावसान की तिथि याद रही

नई दिल्ली. सरस्वती शिशु मंदिर योजना का जैसा विस्तार आज देश भर में हुआ है, उसके पीछे जिन महानुभावों की तपस्या छिपी है. उनमें से ही एक थे ….. दो जुलाई, 1929 को मैनपुरी (उत्तर प्रदेश) के जागीर गांव में जन्मे राणा… Continue Reading

01 जुलाई / जन्मदिवस – श्रमिक हित को समर्पित राजेश्वर दयाल जी

नई दिल्ली. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की यह विशेषता ही है कि उसके कार्यकर्त्ता को जिस काम में लगाया जाता है, वह उसमें ही विशेषज्ञता प्राप्त कर लेता है. राजेश्वर जी भी ऐसे ही एक प्रचारक थे, जिन्हें भारतीय मजदूर संघ के काम… Continue Reading