भगिनी निवेदिता का जीवन गरीबों की सेवा में समर्पित था : पदमश्री निवेदिता

भारत की स्वतंत्रता की समर्थक थी निवेदिता : कुलपति प्रो. अनायत विसंके, सोनीपत। भगिनी निवेदिता का मानना था कि मानव सेवा ही भगवान् की सच्ची सेवा है। उनके मन में मानव प्रेम और सेवा इतनी बसी हुई थी कि अपना देश… Continue Reading