विद्यार्थियों को समाज को देने की मनोवृत्ति विकसित करनी चाहिए : डॉ. मनमोहन

विसंके, रोहतक। भारत की अवधारणा अध्यात्म आधारित अवधारणा है। भारतीय दृष्टि में अध्यात्म और एकात्म का समावेश है। भारतीय संस्कारों में सामाजिक परोपकार समाहित हैं। भारत के युवा वर्ग को भारत को सही मायने में समझने की जरूरत है। भारत में… Continue Reading