हमारे देश के साथ व्यापार युद्ध कर रहा है चीन : प्रीतम सिंह

विसंके, कैथल। स्वदेशी जागरण मंच द्वारा राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ कार्यालय में चीन की चुनौतियां और हमारा राष्ट्रीय दायित्व विषय पर सेमिनार का आयोजन किया गया। सेमिनार में मुख्य वक्ता के रूप में प्रीतम सिंह मौजूद रहे।

प्रीतम सिंह ने बताया कि चीन हमसे व्यापार युद्ध कर रहा है। कम कीमतों में चमक-दमक वाले वस्तुएं बाजार में लाकर हमारे देश के उद्योगों, कारखानों को घाटा पहुंचा रहा है। भारतीय कारखानें उद्योग बंद हो रहे हैं तथा लोग बेरोजगार हो रहे हैं। चीन के व्यापार युद्ध के कारण अकेले चीन से हमें प्रतिवर्ष लगभग 3542 अरब रूपयों का वित्तीय घाटा होता है। चीन ने हमें हमेशा चुनौतियां दी है। भारत पर आक्रमण कर भारत के कुछ भाग पर कब्जा कर रखा है। मुख्य वक्ता ने कहा कि चीनी वस्तुओं का बहिष्कार करें। पिछले साल हमारे देश की जनता ने स्वेच्छा से दीवाली के अवसर पर चीनी वस्तुओं का बहिष्कार कर बता दिया कि जनता स्वदेशी अपनाना चाहती है। उन्होंने चीनी वस्तुओं के बहिष्कार का अह्वान किया। उन्होंने कहा कि चीन हमेशा भारत के विकास में बाधा पहुंचाता है। पहले उसने आक्रमण किया और भारत के भू-भाग पर कब्जा किया। अपनी षडय़ंत्रकारी नीति से भारत को एन.एस.जी. से अलग-थलग करने की कोशिश की, ताकि भारत अन्य देशों के साथ परमाणु समझौता ना कर सके। पाकिस्तानी आतंकवादियों को अप्रत्यक्ष सहायता पहुंचाई। अब चीन हमारे अर्थव्यवस्था को कमजोर करने के लिए लागत मूल्य से कम दामों में अपना सामान बेच कर हमारे देश के उद्योगों व्यापारों को ठप्प कर रहा है। भारत के उद्योग बंद हो रहे हैं। मजदूर, इंजीनियर एवं अन्य कामगार बेरोजगार हो रहे हैं। लोगों को नौकरियां नहीं मिल रही हैं। यह चीन का व्यापार युद्ध है, इसका जवाब देश की सेना नहीं, देश की जनता ही दे सकती है। जरूरी है और हमारा राष्ट्रीय दायित्व है कि चीन की बनी वस्तुओं को न खरीदा जाए। उन्होंने बताया कि जनता स्वदेशी से सीधे जुडऩा चाहती है। चीनी वस्तुओं का बहिष्कार करने का मन बना चुकी है। चीन की चुनौतियों का मुकाबला चीनी वस्तुओं का बहिष्कार कर स्वदेशी वस्तुओं को अपना कर किया जा सकता है। इस अवसर पर नरेंद्र जिंदल व प्रीतम सिंह सहित अन्य कार्यकर्ता मौजूद रहे

बैठक में मौजूद कार्यकर्ता

editor1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *