सूर्यदेव को अर्घ्य देकर मनाया नव वर्ष

गोहाना, विसंके। संस्कार भारती  की गोहाना इकाई ने भारतीय  नववर्ष का स्वागत भगवन सूर्य को अर्घ्य दान दे कर किया |
कार्यक्रम का प्रारम्भ  उत्तम नगर स्थित संत नामदेव धर्मशाला में प्रात: 5 :30  बजे समाज सेवी परमानन्द लोहिया ने दीप  प्रज्ज्वलित कर  किया | कार्यकम की अध्यक्षता विक्रम सैनी ने की | बहन राममूर्ति और सावित्री ने भगवन राम का भजन प्रस्तुत किया | कोमल, काजल और दीक्षा व अपूर्व ने एकल व् समूहगान प्रस्तुत किये| आरएसएस के सुशिल जैन ने “मेरे यार सुदामा रे” गीत  प्रस्तुत कर कार्यक्रम को भक्तिरस से सराबोर कर दिया |प्रमिला व राज गोयल ने भी सुंदर प्रस्तुति दी | मुख्य वक्ता के रूप में परमानंद लोहिया ने कहा की भारतीय नववर्ष का  ऐतिहासिक व  प्राकृतिक महत्व है | चैत्र शुक्ल प्रतिपदा का ऐतिहासिक महत्व पर कहा की इसी दिन के सूर्योदय से ब्रह्माजी ने सृष्टि की रचना प्रारंभ की।

 सम्राट विक्रमादित्य ने इसी दिन राज्य स्थापित किया। इन्हीं के नाम पर विक्रमी संवत् का पहला दिन प्रारंभ होता है। प्रभु श्री राम के राज्याभिषेक का दिन यही है शक्ति और भक्ति के नौ दिन अर्थात् नव वर्ष  का पहला दिन यही है।  सिख परंपरा के द्वितीय गुरू श्री अंगद देव जी के जन्म दिवस का यही दिन है। स्वामी दयानंद सरस्वती जी ने इसी दिन को आर्य समाज की स्थापना दिवस के रूप में चुना। सिंध प्रान्त के प्रसिद्ध समाज रक्षक वरूणावतार संत झूलेलाल इसी दिन प्रगट हुए। विक्रमादित्य की भांति शालिवाहन ने हूणों को परास्त कर दक्षिण भारत में श्रेष्ठतम राज्य स्थापित करने हेतु यही दिन चुना। युधिष्ठिर का राज्यभिषेक भी इसी दिन हुआ। प्रान्त कोषाधक्ष राकेश गंगाना ने भारतीय नववर्ष का प्राकृतिक महत्व बताते हुए  ने कहा की  वसंत ऋतु का आरंभ वर्ष प्रतिपदा के नजदीक  ही होता है जो उल्लास, उमंग, खुशी तथा चारों तरफ पुष्पों की सुगंधि से भरी होती है। फसल पकने का प्रारंभ यानि किसान की मेहनत का फल मिलने का भी यही समय होता है। नक्षत्र शुभ स्थिति में होते हैं अर्थात् किसी भी कार्य को प्रारंभ करने के लिये यह शुभ मुहूर्त होता है। कार्यक्रम के आयोजन में संतलाल रोहिल्ला, दलबीर दांगी , कृष्ण शर्मा, बजरंग गुप्ता, दलबीर खुंडिया, धर्मेंद्र भारद्वाज, अशोक अरोड़ा, आशीष गोयल, सुमित सैनी आदि का योगदान रहा | शहर के गणमान्य लोगो में बीजेपी ज़िला अध्यक्ष डॉ. धर्मबीर नांदल, विनोद रोहिल्ला , आरएसएस नगर कार्यवाह डॉ मनोज शर्मा, महेंद्र भारद्वाज, रेखा रोहिल्ला, कमलेश शर्मा, संगीता गोयल आदि उपस्थित रहे | कार्यक्रम के अंत में प्रसाद वितरण किया  गया| शशिकांत गोयल ने सबका धन्यवाद ज्ञापित कर वंदे मातरम से कार्यक्रम   का समापन किया |

भारत माता के चित्र के समुख दीप प्रज्वलित कर कार्यक्रम का शुभारम्भ करते मुख्यातिथि

सूर्यदेव को अर्घ्य  देती महिलाऐं

 

कार्यक्रम में प्रस्तुती देती महिलाऐं

editor1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *