समाचारों के जरिये समाज को जोड़ना है मीडिया का कार्य : प्रो. कुठियाला

विसंके, कुरुक्षेत्र। माखन लाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर  बृज किशोर कुठियाला ने कहा है कि सामाजिक जीवन में हम एक-दूसरे को जिस तरह से कैसे हो, क्या खबर है, क्या हाल चाल है- पत्रकारिता इसी का विस्तार है। मनुष्य धरती पर एक ऐसा जीव है जिसका संवाद के बिना विकास हो नहीं सकता। मनुष्य-जाति के विकास के लिए समाज में संवाद होना जरूरी है। मनुष्य-जाति को विस्तार, संचार पत्रकार देता है। इसलिए पत्रकारिता पर बड़ा दायित्व है व समाज को बड़ी अपेक्षाएं हैं। वे सोमवार को कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय एवं विश्व संवाद केंद्र के संयुक्त तत्वाधान में आयोजित सात दिवसीय पत्रकार प्रशिक्षण कार्यशाला के उद्घाटन सत्र को संबोधित कर रहे थे।

प्रो. कुठियाला ने कहा कि अन्य क्षेत्रों की तरह पत्रकारिता का भी समाज पर व्यापक प्रभाव है। मीडिया का कार्य समाचारों के जरिये समाज को जोड़ना है। नारद मुनि विश्व के ऐसे सर्वश्रेष्ठ लोकसंचारक रहे हैं जिन्होंने समाज को जोड़ने के लिए अपने जीवन को लगाया। उन्होंने कहा कि इस धरती पर हर कोई एक-दूसरे से जुड़ा हुआ है व हर कोई एक-दूसरे पर निर्भर है। मुख्यातिथि के रूप में उपस्थित डीन कॉमर्स एंड मैनेजमेंट प्रो. मंजुला चौधरी ने कहा कि जनसंचार एवं मीडिया प्रौद्योगिकी संस्थान की यह खूबी है कि वह इस तरह के कार्यक्रमों का आयोजन निरंतर करवाता रहता है। उन्होंने कहा कि दुनियाभर में मीडिया का कंटेंट अब लचीला हो रहा है। अब जब चाहे किसी भी कार्यक्रम को देखा जा सकता है। लोग अपनी जरूरत के अनुसार कार्यक्रम देखते हैं। यूजर जनरेटिड कंटेंट की डिमांड बढ़ रही है। पत्रकारिता में कदम रख रहे भावी पत्रकारों को इस दिशा में विचार करने की जरूरत है। उन्होंने अमेरिका, फ्रांस व कई देशों के मीडिया की स्थिति के बारे में चर्चा करते हुए मीडिया कौशल के महत्व पर प्रकाश डाला। जनसंचार एवं मीडिया प्रौद्योगिकी संस्थान के निदेशक प्रो. एसएस बूरा ने कहा कि पत्रकारिता समाज व व्यवस्था के बीच की कड़ी है। समाज व व्यवस्था के बीच संतुलन बनाने में मीडिया अपनी महत्वपूर्ण भूमिका होती है। उसी उद्देश्य से इस कार्यशाला का आयोजन किया गया है। इस मौके पर डॉ. मधुदीप सिंह ने सभी का धन्यवाद किया व डॉ. बंसीलाल ने मंच का संचालन किया। इस मौके पर विभाग के शिक्षक रोमा सिंह, डॉ. अशोक कुमार, डॉ. आबिद अली, पप्पु कटारिया, अनिल भटनागर, डॉ. प्रदीप राय, सतीश राणा, रोशन लाल, युवा एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम विभाग के निदेशक डॉ. सीडीएस कौशल, डॉ. कुलदीप आदि उपस्थित रहे।

editor1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *