सनसनीखेज समाचारों के दौर में भी हिन्दुस्थान समाचार अपने उद्देश्यों को नहीं भूला: भागवत

नागपुर,  (विसंके)। सामाजिक जागरुकता और संस्कार के आधार पर राष्ट्र को खड़ा करने का काम हिन्दुस्थान समाचार बहुभाषी न्यूज एजेंसी कर रही है। संस्था का वैचारिक आधार सुदृढ़ होने के चलते आने वाले समय में यह देश में पहले क्रमांक की न्यूज एजेंसी होगी। समाचार जगत अपने पुराने उद्देश्यों को भूलकर सनसनीखेज समाचारों को प्रधानता दे रहा है। अच्छे समाचारों को नजरअंदाज किया जा रहा है। इसके बावजूद हिन्दुस्थान समाचार अपने उद्देश्यों को भूला नहीं है।
राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सर संघचालक मोहन भागवत ने नागपुर में हिन्दुस्थान समाचार के कार्यालय का उद्घाटन करने के बाद एक समारोह को संबोधित करते हुए यह विचार व्यक्त किये। उन्

कार्यक्रम का शुभारम्भ करते सर संघचालक मोहन भगवत जी

होंने दीप प्रज्वलित करके हिन्दुस्थान समाचार के नागपुर कार्यालय का उद्घाटन किया। भागवत ने कहा कि स्वयंसेवक अनेक क्षेत्रों में कार्यरत हैं। पहले संघ की ताकत मर्यादित थी। संघ पर 1948 में पाबंदी लगाई गई थी। उस समय संघ के साथ हुए अन्याय के विरोध में कोई खड़ा नहीं हुआ था। उसके बाद संघ के स्वयंसेवक अनेक क्षेत्रों में कार्य करने लगे। उसी समय कुछेक स्वयंसेवकों ने मिलकर हिन्दुस्थान समाचार को शुरू किया। समाज में जो घटित हो रहा है, उसे निर्भीकता से पाठकों तक पहुंचाने का काम इस संस्था ने शुरू किया।

उन्होंने कहा कि आपातकाल के दौरान भी हिन्दुस्थान समाचार पर पाबंदी लगाई गई थी। इस आघात को सहते हुए यह न्यूज एजेंसी स्वयंसेवकों के परिश्रम से पुन: संभली। उसके बाद संस्था को पुन: पाबंदी का सामना करना पड़ा। इसके बाद समाचार सेवा को ऊर्जा देने का काम श्रीकांत जोशी ने किया। विचार, संस्कार और दिशा के सुदृढ़ होने के कारण संस्था पुन: गतिशील हुई। समाचार सेवा को संचालित करना, इस व्यवसायिक युग में बड़ा ही कठिन काम है।
इस संस्था की जिम्मेदारी अब सांसद रवींद्र किशोर सिन्हा पूरी तरह से संभाल रहे हैंं। व्यावसायिक प्रवृत्ति का भी झुकाव समाचार जगत में हुआ है। इससे अनेक अनिष्ट समाचारों को बल मिला है। समाचार जगत अपने पुराने उद्देश्यों को भूल चुका है। इसलिए सनसनीखेज समाचारों को प्रधानता दी जा रही है। अच्छे समाचारों को नजरअंदाज किया जा रहा है। समाचार का मूल्य निश्चित करने का आधार क्या होना चाहिए? सत्य और संस्कार के आधार पर सामाजिक जागरुकता लाने के कार्य को समाचार जगत भूल चुका है। इसके बावजूद हिन्दुस्थान समाचार अपने इस उद्देश्य को भूला नहीं है। संघ के संस्कार से बढ़ी और स्वयंसेवकों के प्रयास से यह समाचार एजेंसी गतिशील हो चुकी है। इस संस्था को स्वयंसेवक ही आगे ले जाएंगे, ऐसा विश्वास सर संघचालक मोहन भागवत ने व्यक्त किया है।
हिन्दुस्थान समाचार के संचालक मंडल के अध्यक्ष व सांसद रवींद्र किशोर सिन्हा ने हिन्दुस्थान समाचार बहुभाषी संवाद समिति की बढ़ती गतिविधियों से उपस्थित लोगों को अवगत कराया। सांसद सिन्हा ने कहा कि इंदिरा गांधी की सरकार के कार्यकाल में लोकतंत्र और प्रसार माध्यमों का गला घोंटने का काम किया गया। नई पीढ़ी को इसकी कल्पना तक नहीं है। लोकसभा चुनाव को उस समय रद्द कर दिया गया था। सरकार के विरोध में कोई भी समाचार छापने की मनाही करते हुए दबाव तंत्र का इस्तेमाल किया गया था पर हिन्दुस्थान समाचार ने दबाव में काम नहीं किया। अब यह संस्था अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कार्यरत है। सत्य, संस्कृति और संस्कार के आधार पर संस्था आगे बढ़ रही है।
इस अवसर पर वरिष्ठ पत्रकार व हिन्दुस्थान समाचार के निदेशक अच्युतानंद मिश्र और जगदीश उपासने उपस्थित थे। कार्यक्रम की प्रस्तावना हिन्दुस्थान समाचार के मुख्य कार्यकारी अधिकारी व प्रधान संपादक राकेश मंजुल ने रखी। आभार प्रदर्शन संस्था के निदेशक अरविंद मार्डीकर ने किया।

editor1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *