शिक्षा ही एकमात्र ऐसा साधन जिसे कोई छीन नहीं सकता : फौगाट

रोहतक, विसंके|  हरियाणवी कलाकार गजेन्द्र फौगाट ने कहा कि युवाओं को जीवन में सफलता हासिल करने के लिए नियमित रूप से अध्यन करना चाहिए| क्योंकि ज्ञान के बिना जीवन अंधकारमय है| पढाई के साथ-साथ उन्होंने खेलों लिए भी युवाओं को प्रेरित किया| गजेन्द्र फौगाट बुधवार को केशव भवन भाली आनन्दपुर गांव में आर्यभट्ट अध्यन केन्द्र का लोकार्पण करने पहुंचे थे|
फौगाट ने कहा कि हमें स्वयं के साथ-साथ दूसरे लोगों को भी पढाई के लिए प्रेरित करना चाहिए| शिक्षा ही एकमात्र ऐसा साधन है जिसे न तो कोई चूरा सकता है और ना ही कोई छीन सकता है| उन्होंने कहा कि हमें अपने माह पुरुषों की जीवनी का बारीकी से अध्यन कर उनके दिखाए मार्ग पर चलना चाहिए| युवाओं को शिक्षा के साथ-साथ खेलना चाहिये| खेल के लिये पहले अपना चेकअप करवाना चाहिये जिससे शारीरिक क्षमता का पता चलता है| हमें हमेशा सकारात्मक सोच के साथ कार्य करना चाहिये| इस अवसर पर मोनू, आर्यभट्ट अध्यन केन्द्र संचालक सुमित, सूरजमल, डॉ कृष्ण, नीरज पंच, संदीप पंच, कृष्ण पंच, अशोक, सोमवीर, योगेश, सुमित, मंजीत, मोहित, रोहित सहारण, अजय, सतपाल मास्टर, मोहित, प्रवीण, प्रमोद, डॉ. मनोज, अरुण, अजमेर प्रधान शहीद चन्द्र शेखर आज़ाद सेवा समिति आदि उपस्थित रहे|

अध्यन केंद्र का उद्घाटन करने पहुंचे गजेन्द्र फौगाट व अन्य गणमान्य लोग

editor1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *