युवा शक्ति ही राष्ट्र की असल पूंजी : डॉ संजय

बल्लबगढ़, विसंके|  युवा शक्ति ही राष्ट्र की असल पूंजी है| तीव्रगति से बदलते परिवेश और प्रतियोगिता के इस युग में युवाओं को नौकरी ढूंढने वाली मानसिकता को छोडकर नौकरी देने वाली मानसिकता को अपनाना होगा| उक्त विचार बल्लबगढ़ स्थित अग्रवाल कॉलेज में  वाईएमसीए यूनिवर्सिटी के रजिस्ट्रार डा. संजय शर्मा ने सामाजिक समरसता मंच द्वारा  “समर्थ युवा, समरस भारत” विषय पर आयोजित एक संगोष्ठी में व्यक्त किये| कार्यक्रम की अध्यक्षता अग्रवाल कॉलेज के प्रिंसिपल डा. कृण्ण कान्त गुप्ता ने की |
उन्होंने कहा कि युवाओं को नौकरी की अपेक्षा निजी व्यवसाय की ओर ज्यादा ध्यान देना चाहिए| अध्यक्षीय उद्बोधन में डा  गुप्ता ने  मंच द्वारा आयोजित इस संगोष्ठी की सराहना करते हुए कहा कि युवाओं को प्रेरणा  देने वाले इस प्रकार के आयोजन समय समय पर होते रहने चाहिए| अपने बेहतर भविष्य की परिकल्पना के साथ-साथ सामाजिक समरसता का भाव भी युवाओं में रहना चाहिए, तभी देश प्रगति कर सकेगा| युवाओं में शैक्षणिक योग्यता के साथ-साथ व्यावहारिक ज्ञान भी बहुत आवश्यक है| सामाजिक समरसता मंच के जिला संयोजक संजय कुमार ने कहा कि युवा शक्ति ही राष्ट्र शक्ति है इसलिए युवाओं को जातिवाद, ऊंच-नीच व सभी प्रकार के भेदभावों से ऊपर उठकर राष्ट्रहित में कार्य करना चाहिए| इस अवसर पर डा. किरण, रेखा, अरूण, संजय, सुशील, अजय, अनुज,  संतराम सहित सैकड़ों विधार्थी उपस्थित रहे|

editor1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *