मेरा मंडल, मेरा तीर्थ बने इस भाव के साथ कार्य में जुटे – माननीय बजरंग लाल जी

विश्व संवाद केंद्र , कुरुक्षेत्र , भारत की सेवा करनी है तो अपने आसपास के समाज में संगठन खड़ा करें , ये बात डॉ बजरंग लाल गुप्त ने गीताविद्यालय परिसर कुरुक्षेत्र में आयोजित मंडल कार्यवाह शिविर में कही।शिविरके उदघटन कार्यक्रम में उन्होंने कहा कि मेरा मंडल मेरा तीर्थ बने, इस भाव से हमे कार्य में जुटना चाहिए।इसकी शुरुआत हमे अपने गाँव से करनी होगी ।गाँव में शिक्षा, स्वावलंबन व ग्राम विकास के कार्य में तेजी लाते हुए अपने गाँव को कुरीतियों और बुराइयों से मुक्त करें।

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के ग्रामीण क्षेत्रों के मंडल कार्यवाह शिविर का शुभारम्भ श्रीमद भगवद्गीता वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय में हुआ।उल्लेखनीय है कि तीन दिन तक चलने वाले  इस शिविर में हरियाणा प्रान्त के सभी जिलों से लगभग 1000 कार्यकर्ता भाग ले रहे हैं। पिछले दो दिन से खराब मौसम भी कार्यकर्ताओं का उत्साह कम नहीं कर सका। बारिश में भीगते हुए सुबह से ही प्रदेश भर के कार्यकर्ता विद्यालय परिसरमें पहुंचना प्रारम्भ हो गये थे। कार्यकर्ताओं के उत्साह को देखते हुए ऐसा प्रतीत हो रहा था कि देशसेवा के कार्य के लिए स्वयंसेवक को कोई भी बाधा रोक नहीं सकती। स्वयंसेवकों की निष्ठा और लगन को देखते हुए मानो सूर्य देवता भी प्रसन्न हो गये और दो दिन से हो रही वर्षा के बाद मौसम सुहावना हो गया।

हरियाणा में संघ की स्थापना के 80 वर्ष पूर्ण होने पर ग्रामीण क्षेत्रमें संघकार्य केविस्तार को ध्यानमें रखकर यह शिविर आयोजित किया गया है।शिविर कार्यवाह सुभाष आहूजा ने बताया कि हरियाणा भर में संघ कार्य की दृष्टि से 847 मंडल हैं वर्तमान में 424 मंडलों के 1034 गांवों में 1720 शाखाएं चल रही हैं।इस शिविर का उद्देश्य गावों में संघ कार्यका विस्तार करते हुए शेष सभी मंडलों को भी शाखायुक्त करना है ।

शिविर के उद्घाटन कार्यक्रम में संघ के प्रान्त संघचालक मेजर करतार सिंह, शिविर अधिकारी  रिटायर्ड जनरल रघु सहरावत तथा प्रान्त कार्यवाह प्रो. देवप्रसाद भारद्वाज उपस्थित रहे।

 

 

editor1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *