पत्रकार होता है समाज का आइना : धर्माणी

जिला स्तरीय पत्रकार सम्मान समारोह का हुआ आयोजन
रोहतक।  सूचना आयुक्त भूपेंद्र धर्माणी ने कहा कि पत्रकार समाज का आइना होता है, वह चैनल या समाचार पत्रों के माध्यम से जो कुछ भी प्रस्तुत करता है समाज उस पर आंखें बंद करके विश्वास कर लेता है। इसलिए पत्रकार को समाचार की विश्वसनीयता को बनाये रखने के लिए तथ्यों को जाँच परख कर ही समाचार को प्रकाशित करना चाहिए। वह रविवार को शहर की चिन्योट कॉलोनी स्थित विश्व संवाद केंद्र कार्यालय में आदि पत्रकार देवर्षि नारद जयंती के उपलक्ष्य में आयोजित जिला स्तरीय पत्रकार सम्मान समारोह एवं संगोष्ठी के दौरान पत्रकारों को संबोधित कर रहे थे।  इस अवसर पर कार्यक्रम में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के माननीय सह प्रांत संघचालक एवं उद्योगपति पवन जिंदल तथा पूर्व प्राचार्य एवं समाजसेवी श्याम कपूर भी विशेष तौर पर मौजूद रहे। कार्यक्रम का शुभारंभ वंदेमातरम व समापन कल्याण मंत्र के साथ किया गया। मुख्यातिथि ने देवर्षि नारद के चित्र के समक्ष दीप प्रज्जवलित कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया। कार्यक्रम के आरंभ में दैनिक भास्कर के रोहतक यूनिट के संपादक जितेंद्र श्रीवास्तव के निधन मौन धारण कर शौक प्रकट किया गया। इस अवसर पर पत्रकारों को स्मृति चिह्न भेंट कर सम्मानित भी किया गया। इस अवसर पर विश्व संवाद केंद्र कार्यालय में पुस्तकालय एवं वाचनालय का शुभारंभ भी किया गया।

सूचना आयुक्त भूपेंद्र धर्माणी ने कहा कि सोशल मीडिया ने हर व्यक्ति को पत्रकार बना दिया है। प्रतिदिन हजारों झूठी अफवाएं सोशल मीडिया के माध्यम से फैलती रहती हैं। इसलिए पत्रकारों के सामने समाचार की प्रमाणिकता व विश्वसनियता को बनाए रखने की एक बहुत बड़ी चुनौती खड़ी हो गई है। उन्होंने कहा कि पत्रकारों को देशहित को ध्यान में रखकर कर सूक्ष्म दृष्टी और गहन छानबीन के बाद समाचारों को जनता के सामने लाना चाहिए। उन्होंने कहा कि  देवर्षि नारद ब्रह्मांड के प्रथम पत्रकार थे, वह तीनों लोकों में विचरण करते थे और असुरों की सूचनाएं देवताओं तक व देवताओं की सूचनाएं असुरों तक पहुंचाते थे। देवर्षि नारद जन कल्याण के लिए कार्य करते थे। पत्रकारों को भी देवर्षि नारद के जीवन से प्रेरणा लेकर समाजहित के लिए कार्य करना चाहिए। माननीय सह प्रांत संघचालक पवन जिंदल ने कहा कि पत्रकार लोकतंत्र का चौथा स्तंभ है। पत्रकार का काम समाज को जागृत करने का है। पत्रकार समाचार को बड़ी ही सुक्षम व बारिक दृष्टि से देखता है। उन्होंने कहा कि एक सच्चे पत्रकार की जिम्मेदारी देश को सही दिशा देने की है। इसलिए पत्रकार को पत्रकारिता के साथ-साथ राष्ट्र धर्म भी निभाना चाहिए। देश को तोडऩे वाले समाचारों को महत्व नहीं देना चाहिए। पूर्व प्राचार्य एवं समाजसेवी श्याम कपूर ने कहा कि कोई भी देश तभी गौरवशाली बन सकता है जब वहां का मीडिया पूरी ईमानदारी के साथ अपने दायित्व का निर्वाह करेगा। मीडिया ही देश को फिर से विश्वगुरू बना सकता है। इसलिए मीडिया को पूरी निष्ठा से अपना दायित्व निभाते हुए देशहित हित के लिए कार्य करना चाहिए। देश को तोडऩे वाले लोगों को तवज्जो नहीं देनी चाहिए। मीडिया ही देश को सही दिशा दे सकता है।

 

दीप प्रज्ज्वलित कर कार्यक्रम का शुभारम्भ करते मुख्यातिथि

कार्यक्रम में मंच पर मौजूद मुख्यातिथि व गणमान्य लोग।

 

पत्रकारों को सम्मानित करते मुख्यातिथि।

 

कार्यक्रम को संबोधित करते मुख्यातिथि।

editor1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *