भाली आनंदपुर गांव में दिखी सामुदायिक प्रयास की झलक

ग्रामोत्सव में बच्चों ने संभाला प्रबंधन 
उत्कृष्ट कार्य करने वाले सम्मानित 
विंसके-रोहतक-जिले के भाली आनंदपुर गांव के युवाओं द्वारा रविवार को गांव राजकीय सीनियर सेकेंडरी स्कूल में ग्रामोत्सव का आयोजन किया गया। संघ की प्रेरणा से गांव के युवाओं द्वारा केशव भवन में चलाए जा रहे विभिन्न प्रकल्पों की उपलब्धियों की झलक भी कार्यक्रम में देखने को मिली। गांव के छोटे-छोटे बच्चों ने रंगारंग सांस्कृतिक प्रस्तुतियां दी। इस अवसर पर उत्कृष्ट कार्य करने वाले युवाओं तथा शहीद पायलेट संदीप के परिजनों को भी 
सम्मानित किया गया। कार्यक्रम में ग्रामीणों ने बढ़-चढ़कर भाग लिया। 
कार्यक्रम की खास बात यह रही कि पांचवीं क्लास से लेकर 
बारहवीं तक के बच्चों द्वारा पूरे कार्यक्रम का प्रबंधन किया। 
कार्यक्रम में मुख्यवक्ता के तौर पर दीनदयाल शोध संस्थान से माननीय अतुल जैन जी व एलपीएस बोसार्ड़ के चेयरमैन 
राजेश जैन जी ने शिरकत की। माननीय अतुल जैन जी ने 
युवाओं द्वारा गांव में किए जा रहे उत्कृष्ट कार्यों की प्रशांस 
करते हुए कहा कि युवाओं द्वारा गांव में भाईचारे को कायम 
करने तथा हमारी संस्कृति को बचाए रखने की एक अनूठी 
मिशाल पेश की है। देश के युवाओं को इस गांव के युवाओं से प्रेरणा लेकर अपने गांव के विकास की तरफ ध्यान देना चाहिए। गांव के विकास के बिना देश का विकास संभव नहीं है। क्योंकि गांवों में ही देश की आत्मा बसती है। इसलिए गांव का विकास जरूरी है और यह युवाओं के सहयोग के बिना संभव नहीं है। ग्रामीणों को सरकार पर निर्भर रहने की बजाए स्वयं आत्मनिर्भर बनने के लिए प्रयास करने चाहिएं। चेयरमैन राजेश जैन ने युवाओं के 
विकास कार्यों की सराहना करते हुए कहा कि मिलजुल कर गांव का सर्वांगीण विकास किया जा सकता है। इस 
अवसर पर आजाद खेल रत्न पुरस्कार, ग्राम गौरव पुरस्कार, सेवा सम्मान पुरस्कार, कन्या गुरुकुल को 5 एकड़ 
जमीन दान करने वाले आजाद सिंह को दानवीर पुरस्कार, भाईचारा-शांति के लिए चौधरी हवा सिंह सैनी को शांति पुरस्कार, पूर्व सरपंच पंडित प्यारेलाल को विकास पुरुष पुरस्कार, रोहतक, सोनीपत झज्जर जिले से बारहवीं में 
सर्वाधिक अंक प्राप्त करने वाली मुस्कान और हिमाचल के मंडी से आईआईटी कर रही अजलि द्वारा प्रथम सेमेस्टर में टॉप करने पर शिक्षण पुरस्कार से सम्मानित किया गया। इस अवसर पर जेल अधीक्षक दयानंद मंडोला, अर्जुन 
अवार्डी कबड्डी खिलाड़ी मंजीत छिल्लर,विरेंद्र उर्फ गूंगा पहलवान विशेषतौर पर उपस्थित रहे। रागिनी कलाकार 
राजेश भाली की टीम द्वारा 'बरसन लागे फूल बोस पै जब हाथ मिला हिटलर तै' प्रस्तुत रागिनियों पर उपस्थित लोगों ने तालियां बजाकर उत्साहवर्धन किया।

मेरे यार सुदामा रे गीत से बांधा समां

सुबह 8:30 बजे हवन से कार्यक्रम की शुरुआत हुई, जिसमें गांव के बच्चों, महिलाओं बुजुर्गों ने उत्साह से 
भागीदारी की। इसके बाद सांस्कृतिक कार्यक्रम में स्वागत गीत के बाद सांघी की बेटियों ने यू-ट्यूब पर हिट गीत 'मेरा यार सुदामा रे' सुनाया, जिसका दर्शकों द्वारा खूब सराहा गया। गांव की महिलाओं ने भी गांव में हो रहे 
विकास कार्यों और बदलती तस्वीर पर आधारित गीत के बोल से समां बांध दिया। इस दौरान अन्य स्कूलो के बच्चों ने भी रचानात्मक कार्यक्रम प्रस्तुत किए।

कार्यक्रम में प्रस्तुति देती बच्चियां

editor1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *