प्राकृतिक, सामाजिक, धार्मिक व राष्ट्रीय सभी दृष्टिकोणों से भारतीय नववर्ष का विशेष महत्व

भारतीय सांस्कृतिक जीवन का विक्रमी संवत से गहरा नाता है । हमारे भारतीय समाज में सभी कर्म काण्ड, पूजा पाठ, विवाह, लग्न, भूमि पूजन, गृह प्रवेश, नामकरण संस्कार हो या श्राद्ध कर्म सभी भारतीय कैलेंडर अर्थात विक्रमी संवत के अनुसार ही संपन्न होते हैं । उक्त विचार सोमवार को बल्लबगढ़ में भूदत्त कॉलोनी स्थित सरस्वती विद्या मंदिर में आयोजित भारतीय नववर्ष महोत्सव के अवसर पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रांत सह बौद्धिक प्रमुख श्री गंगाशंकर मिश्र ने व्यक्त किये । उन्होंने कहा कि प्राकृतिक, सामाजिक, धार्मिक व राष्ट्रीय सभी दृष्टिकोणों से भारतीय नववर्ष का विशेष महत्व है क्योंकि भारतीय जंत्री पूर्णरूपेण वैज्ञानिक कालगणना पर आधारित है ।  ब्रह्मा जी द्वारा इसी दिन सृष्टि की रचना गयी थी । शक्ति की देवी माँ दुर्गा के नवरात्रों का शुभारम्भ इसी दिन होता है ।  मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान् श्रीराम व धर्मराज युधिष्ठिर का राज्याभिषेक भी इसी दिन हुआ ।  स्वामी दयानंद सरस्वती ने आर्य समाज की स्थापना के लिए भी इसी दिन को चुना । विश्व के सबसे बड़े स्वयंसेवी संगठन राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के संस्थापक डा केशव बलिराम हेडगेवार का जन्म भी इसी दिन हुआ ।  उन्होंने कहा कि इस परम पुनीत पर्व पर हम सबको संकल्प लेना चाहिए कि समाज में व्याप्त कुरीतियों जैसे छुआछूत, भ्रूणहत्या व बालविवाह आदि के प्रति सम्पूर्ण समाज को जाग्रत कर इन कुरीतियों को जड़ से समाप्त कराएं । सभी के लिए एक ही जलस्रोत, एक ही मंदिर व एक ही श्मशान का प्रयोग हो ।  विद्यालय के छात्र-छात्राओं द्वारा देशभक्ति से ओतप्रोत एवं सामाजिक बुराइयों पर कटाक्ष करते हुए अनेक मनमोहक व दिल को छू लेने वाले सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किये गए । इस अवसर पर विद्यालय की वार्षिक परीक्षा में प्रथम, द्वितीय व तृतीय स्थान प्राप्त करने वाले मेधावी छात्रों को पुरुष्कार वितरण भी किया गया । कार्यक्रम  अध्यक्षीय उद्बोधन में संघ के उत्तर क्षेत्रीय संपर्क प्रमुख श्रीकृष्ण सिंघल ने अपने विचार व्यक्त  करते हुए कहा कि सामाजिक सद्भाव की दृष्टि से भारतीय नववर्ष का विशेष महत्व है । उन्होंने कहा कि अंग्रेजी नववर्ष पर जहां मांस-मदिरा की बिक्री औसत बिक्री से लगभग 300 गुणा बढ़ जाती है जो समाज में अनेक प्रकार के अपराधों का कारण बनती है, वहीं भारतीय नववर्ष  पर यह घटकर मात्र 20% रह जाती है ।  भारतीय जनता पार्टी के जिला अध्यक्ष गोपाल शर्मा जी ने भी इस अवसर पर अपने विचार व्यक्त किये । इस अवसर पर सरस्वती शिक्षा समिति बल्लबगढ़ के अध्यक्ष राम अवतार गुप्ता जी, समिति के सचिव चुन्नीलाल गर्ग जी, संघ के बल्लबगढ़ जिला संघचालक डा चंद्रशेखर भारद्वाज, नगर संघ चालक राजेंद्र जैन, विभाग कार्यवाह राकेश त्यागी जी, जिला कार्यवाह संतोष जी, दीपक अग्रवाल जी, आदेश सिंघल जी, सीताराम जी, हरिओम जी, अनिल बंसल जी, राजेंद्र गोयल आदि सहित नगर के अनेक गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे ।

सांस्कृतिक कार्यक्रम में भाग लेती छात्राएं

कार्यक्रम का शुभारम्भ करते अथिति

editor1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *