पूरे देश में गोहत्या पर प्रतिबंध के लिए हो एक कानून : भागवत

राष्ट्रव्यापी कानून की संघ प्रमुख ने की वकालत
(विसंके)। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ प्रमुख मोहन भागवत जी ने गोरक्षक दलों की ओर से की जा रही हिंसा की निंदा करते हुए कहा है कि यह गोरक्षा के प्रयासों को बदनाम कर रही है। इसके साथ ही उन्होंने स्पष्ट किया कि संघ पूरे देश में गोहत्या पर प्रतिबंध के लिए एक कानून चाहता है। महावीर जयंती के मौके पर उन्होंने गोहत्या को ‘अधर्म’ बताया। साथ ही गोरक्षा के प्रयासों में अधिक से अधिक लोगों को जोड़ने का आह्वान किया। उन्होंने कानून और संविधान का पूरी तरह पालन करने पर जोर दिया। मोहन भागवत महावीर जयंती के अवसर पर तालकटोरा इंडोर स्टेडियम में आयोजित समारोह को संबोधित कर रहे थे। संघ प्रमुख ने कहा कि वैसे, कानून बनाने की दिशा में काम हो रहा है। कई राज्यों में जहां संघ की पृष्ठभूमि वाले लोग सत्ता में हैं, वहां ऐसे कानून बनाए गए हैं। साथ ही तमाम जटिलताओं के बीच रास्ता निकालकर पूरे देश में इसे लागू करने को लेकर लोग प्रयास कर रहे हैं। भागवत ने कहा कि एक पशु चिकित्सक होने के नाते वह देसी गायों, गोमूत्र, गोबर की उपयोगिता जानते हैं। उन्होंने दावा किया कि इनकी उपयोगिता को तो वैज्ञानिक संस्थाओं ने भी स्वीकार किया है। उन्होंने कहा की गाय की रक्षा करते हुए ऐसा कुछ नहीं करना है, जो दूसरों के विश्वास को ठेस पहुंचाए। कुछ भी  हिंसक नहीं  करना है। यह केवल गोरक्षकों के प्रयासों को बदनाम करता है। गायों को बचाने का काम कानून और संविधान का पालन करते हुए हो। यदि समाज का व्यवहार बदलता है तो गोहत्या बंद हो जाएगी।

पूरे देश में गोहत्या पर लगे प्रतिबंध

भागवत जी ने कहा कि किसी भी प्रकार की हिंसा भारतीय संस्कृति में मान्य नहीं है। जैन धर्म हमें जीवों, प्राणियों और संपूर्ण सृष्टि की रक्षा व उनसे प्यार करना सिखाता है। अहिंसा की सीख देता है। हमें भगवान महावीर के बताए अहिंसा के मार्ग को अपनाना होगा तभी हम भारत को विश्व में एक मजबूत राष्ट्र बनाने में सफल होंगे।

 जैन धर्म दिखाता है शांति का रास्ता

केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि जैन धर्म को मानने वाले संख्या में भले ही कम हैं, लेकिन वे समाज और प्रकृति को देने में ज्यादा विश्वास करते हैं। आज आतंकवाद से पूरा विश्व परेशान है। अगर इसमें कोई शांति का रास्ता दिखाता है तो वह है जैन धर्म। यह धर्म वैज्ञानिकता पर आधारित है। समारोह को केंद्रीय सूक्ष्म एवं लघु उद्योग मंत्री कलराज मिश्र व लोकसभा अध्यक्ष सुमित्र महाजन ने भी संबोधित किया।

editor1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *