देवर्षि नारद की तरह हर पत्रकार का ध्येय लोक कल्याण हो – जे. नंदकुमार जी

पानीपत (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अखिल भारतीय सह प्रचार प्रमुख जे. नंद कुमार जी ने कहा कि पत्रकारिता आज बौद्धिक कैंसर से ग्रस्त हो चुकी है. इसका निदान करने के लिए मीडिया जगत को अपना धर्म निभाते हुए रोग को मिटाने की जरूरत है. वह देवर्षि नारद जयंती के अवसर पर आयोजित प्रांत स्तरीय द्वितीय पत्रकार सम्मान समारोह में संबोधित कर रहे थे. उन्होंने सभी से आदि पत्रकार देवर्षि नारद की लोकहित में काम करते हुए पत्रकारिता धर्म निभाने का आह्वन किया.

केरल की प्रतिष्ठित और सर्वाधित प्रसारित साप्ताहिक पत्रिका केसरी के लंबे समय तक संपादक रहे जे. नंदकुमार जी ने कहा कि आज मीडिया जगत के कुछ लोग जानबूझकर लोगों को निशाना बनाते हुए बिना तथ्यों के समाचारों को प्रकाशित कर रहे हैं. यह एक प्रकार का मीडिया में लगा बौद्धिक कैंसर है. इतना ही नहीं बौद्धिक कैंसर को फैलाने के काम में लगे ये पत्रकार समाचार प्रेषण से पूर्ण तथ्यों को भी ठीक से नहीं जांचते. जानबूझकर लोगों को टारगेट करके समाचार लिखना कुछ मीडियाकर्मी अपनी शान समझते हैं. पत्रकारिता का धर्म भूल बैठे ये लोग समाज को भ्रमित करने में लगे रहते हैं. उन्होंने पिछले दिनों संघ के बारे में और संघ के सरसंघचालक के बयान के कुछ हिस्से को अपने हिसाब से प्रसारित करने संबंधी समाचारों का उदाहरण देते हुए अपनी बात रखी और मीडिया में दिनोंदिन बढ़ रहे इस प्रकार के बौद्धिक कैंसर को समाप्त करने की ओर काम करने के लिए कार्यक्रम में उपस्थित पत्रकारों का आह्वान किया. उन्होंने नारद जी के जीवन के कुछ उदाहरण देते हुए पत्रकारिता धर्म संबंधी बातें भी रखीं. उन्होंने कहा कि आजकल कुछ मीडियाकर्मी कट-पेस्ट में विश्वास करते हैं, जिसके कारण तथ्यों को परखना वे भूल जाते हैं. इससे मीडिया की विश्वसनीयता पर प्रश्न खड़ा होता है. उन्होंने कहा कि जिस प्रकार आदि पत्रकार देवर्षि नारद का ध्येय लोक कल्याण होता था, उसी प्रकार हर पत्रकार को अपनी लेखनी लोकहित में चलानी चाहिए. उन्होंन कार्यक्रम में उपस्थित सभी पत्रकारों का आह्वान किया कि मीडिया में फैल रहे बौद्धिक कैंसर को समाप्त करने के लिए सभी को लोकहित को ध्यान में रखकर काम करने की जरूरत है.

पानीपत नारद जंयती (2)देवर्षि नारद जयंती के अवसर पर आयोजित प्रांत स्तरीय द्वितीय पत्रकार सम्मान समारोह में वरिष्ठ पत्रकार एवं हरियाणा साहित्य अकादमी के वाइस चेयरमैन वयोवृद्ध राधेश्याम शर्मा को देवर्षि नारद आजीवन उत्कृष्ट सेवा सम्मान से पुरस्कृत किया गया. इसके अलावा जी न्यूज के वरिष्ठ संपादक सुधीर चौघरी को देवर्षि नारद हरियाणा पत्रकारिता गौरव नारद सम्मान के अलावा सात अन्य पुरस्कार भी पत्रकारों को प्रदान किए गए.

आर्य कॉलेज के सभागार में आयोजित कार्यक्रम में विश्व संवाद केंद्र, हरियाणा और इंडियन मीडिया सेंटर के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित कार्यक्रम में प्रदेशभर से लगभग 150 पत्रकार बंधु/भगिनियों ने भाग लिया. हरियाणा विधानसभा के अध्यक्ष कंवरपाल गुर्जर, नेशनल बुक ट्रस्ट के चेयरमैन एवं वरिष्ठ पत्रकार बल्देव भाई शर्मा, करनाल लोकसभा क्षेत्र के सांसद एवं वरिष्ठ पत्रकार अश्विनी चोपड़ा, उपस्थित थे.

सुधीर चौधरी को प्रदान हरियाणा पत्रकारिता गौरव नारद सम्मान उनके सहयोगी एवं जी न्यूज के पत्रकार पवन नारा ने ग्रहण किया. महिला पत्रकारिता गौरव नारद सम्मान टाइम्स ऑफ इंडिया की करनाल से पत्रकार अनिता सिंह को प्रदान किया गया. ग्रामीण विषयक पत्रकारिता नारद सम्मान कैथल के दैनिक ट्रिब्यून के पत्रकार ललित शर्मा को प्रदान किया गया. पत्रकारिता के माध्यम से सामाजिक सरोकारों को प्रमुखता से प्रकाशित करने पर सामाजिक सरोकार पत्रकारिता नारद सम्मान दैनिक जागरण की सोनीपत से पत्रकार अल्पना फौजदार, उत्कृष्ट फोटोग्राफी के लिए उत्कृष्ट फोटो पत्रकारिता नारद सम्मान पानीपत दैनिक भास्कर के फोटो जर्नलिस्ट भगवान दास को, संपादक के नाम पत्र के माध्यम से सामाजिक एवं अन्य विषयों को उठाने के लिए नागरिक पत्रकारिता नारद सम्मान यमुनानगर के कृषि वैज्ञानिक डॉ. राजेश कथवाल को एवं नवोदित पत्रकार नारद सम्मान के लिए पिल्लुखेड़ा (जींद) से अमर उजाला के लिए कार्य करने वाले नरेंद्र कुंडू को पुरस्कृत किया गया. पत्रकारिता सेवा नारद सम्मान श्री माधव चेतना न्यास के तत्वावधान में पिछले 26 वर्षों से प्रकाशित होने वाली मासिक पत्रिका संघमार्ग में निरंतर सेवाएं देने वाले और वर्तमान में हृदयाघात के कारण पिछले लगभग डेढ़ वर्ष से कोमा में चल रहे गुडग़ांव निवासी सुशील गर्ग को प्रदान किया गया. यह सम्मान उनकी धर्मपत्नी ने ग्रहण किया. पत्रकारों को सम्मानित करने के दौरान एक मोमेंटो एवं प्रशस्ति पत्र के अलावा कुछ राशि भी प्रदान की गई.

वही सत्य प्रचारित करें, जिसमें लोक कल्याण हो – बल्देव भाई

पानीपत नारद जंयती (3)पानीपत. पत्रकारिता का धर्म काम केवल लोगों को सूचना देना ही नहीं है, बल्कि अच्छा संदेश देना है. हमें ऐसा सत्य प्रचारित करना चाहिए, जिसमें लोक कल्याण छिपा हो. यह बात नेशनल बुक ट्रस्ट के चेयरमैन एवं वरिष्ठ पत्रकार बल्देव भाई शर्मा ने कही. हमें वही सत्य प्रचारित एवं प्रसारित करना चाहिए, जिसमें लोक कल्याण की भावना छिपी हो. पत्रकारिता के धर्म को बताते हुए कहा कि हमें किसी भी समाचार को प्रचारित और प्रसारित करने से पहले यह सोचना चाहिए कि इसमें राष्ट्र का क्या हित छिपा है. मुंबई में हुए आतंकी हमले के दौरान लाइव वीडियो दिखाने के इलैक्ट्रॉनिक मीडिया के पत्रकारों का कार्य राष्ट्रहित में नहीं था. ऐसा करने से आतंकियों को ही मदद मिली. उन्होंने कहा कि हमें ऐसा सत्य दिखाने से बचना चाहिए, जिससे राष्ट्र का नुकसान होता हो.

भारत में कुछ मीडियाकर्मियों के समूह पर छाई पश्चिमी सोच को चिंताजनक बताते हुए कहा कि भारत का इतिहास गौरवशाली रहा है. इसे विस्मृत कराने का प्रयास निरंतर चलता रहता है और पश्चिमी मानसिकता से ग्रसित मीडिया में काम करने वाले कुछ लोग इस षड्यंत्र को पोषित करने के काम में लगे हैं. यह चिंताजनक है. उन्होंने ग्रामीण परिवेश की सकारात्मक बातों को अधिक से अधिक प्रसारित और प्रचारित करने की दिशा में काम करने के लिए पत्रकारों का आह्वान किया.

ताकतवर को संभलकर काम करना चाहिए – कंवरपाल

कार्यक्रम में मुख्य अतिथि हरियाणा विधानसभा के अध्यक्ष कंवरपाल गुर्जर ने कहा कि पत्रकार लोकतंत्र का चौथा मजबूत स्तंभ हैं. पत्रकारिता में बहुत ताकत है और जो ताकतवर होता है, उसे संभलकर काम करना चाहिए. हमेशा नकारात्मक के बजाय सकारात्मक चर्चा भी करनी चाहिए. पत्रकारिता का पेशा बेहद संवेदनशील और जिम्मेदारी से भरा पेशा है. अपने घर की एक घटना का जिक्र करते हुए कहा कि पत्रकार 24 घंटे काम में लगा रहता है. उसके पास अपने लिए समय ही नहीं होता. उन्होंने बताया कि एक बार वह कुछ पत्रकारों के साथ बातें कर रहे थे. इतने में एक बिल्डिंग के गिरने की खबर आई तो वहां बैठे पत्रकार भोजन किए बिना ही अपने काम के लिए घटनास्थल पर निकल गए.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *