केरल में हिंदुओं पर बढ़ते अत्याचार के विरोध में हरियाणा के सामाजिक संगठनों ने भरी हुंकार

प्रदेश के सभी जिलों में लोकतंत्र बचाओ मंच व सामाजिक संगठनों ने किया प्रदर्शन
प्रशासनिक अधिकारियों के माध्यम से महामहीम राष्ट्रपति को भेजा ज्ञापन

केरल में माक्र्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के सदस्यों द्वारा राष्ट्रवादी संगठनों के कार्यकर्ताओं की निर्मम तरीके से हत्या करने तथा हिंदुओं पर बढ़ते अत्याचार का दर्द हरियाणा प्रदेश में भी देखने को मिला। केरल में वामपंथियों की दिनों-दिन बढ़ रही गुंडागर्दी के विरोध में बुधवार को पूरे प्रदेश में जिला स्तर पर लोकतंत्र बचाओ मंच तथा विभिन्न सामाजिक संगठनों द्वारा धरने व प्रदर्शनों का आयोजन कर रोष प्रकट किया गया। इस दौरान सामाजिक संगठनों ने वामपंथियों के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। प्रदर्शन के बाद जिला  प्रशासनिक अधिकारियों के माध्यम से महामहीम राष्ट्रपति को ज्ञापन भी प्रेषित किए गए। राष्ट्रपति को भेजे गए ज्ञापन के माध्यम से सामाजिक संगठनों ने केरल में हिंदुओं पर बढ़ रहे अत्याचारों को  रोकने तथा राष्ट्रवादियों के हत्यारों के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की।   सामाजिक संगठनों ने केरल की वामपंथी सरकार को चेताते हुए कहा कि यदि केरल सरकार ने जल्द से जल्द हिंदुओं पर अत्याचार करने वाले वामपंथियों के खिलाफ कार्रवाई नहीं की तो वह लोग केरल में पहुंचकर हुंकार भरेंगे। सामाजिक संगठनों द्वारा प्रदेश के सभी शहरों में शांतिपूर्वक तरीके से प्रदर्शन किया गया। फतेहाबाद जिले में केरल में माक्र्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के सदस्यों द्वारा राष्ट्रवादी संगठनों के लोगों की निर्मम हत्या किए जाने के विरोध में राष्ट्र जागरण मंच के नेतृत्व में दर्जनों संगठनों द्वारा बुधवार को शहर में धरना देने के

फतेहाबाद में रोष प्रदर्शन करते सामाजिक संगठनों के पदाधिकारी

केरल में मारे गए स्वयंसेवकों को हांसी में श्रद्धांजलि देते सामाजिक संगठनों के पदाधिकारी

बाद जोरदार रोष प्रदर्शन किया गया। राष्ट्र जागरण मंच के जिला संयोजक सीपी आहूजा के नेतृत्व में आयोजित इस धरने प्रदर्शन में राष्ट्रीय सुरक्षा मंच, सेवा भारती, विश्व हिंदू परिषद, वन्य जीव बिश्नोई सभा, वरिष्ठ नागरिक परिषद, नायक सभा, अरोडवंश सभा, वैश्य समाज, पंचनद स्मारक समिति, पतंजलि योग पीठ, सरपंच एसोसिएशन, बाजीगर समाज, ओड समाज, जाट समाज सहित जिलेभर के अन्य कई संगठनों व संस्थाओं ने शिरकत की। अरोडवंश चौक पर आयोजित धरने को संबोधित करते हुए कार्यक्रम के संयोजन सीपी आहूजा ने कहा कि केरल में गत वर्ष मई में माकपा की सरकार आने के बाद से राष्ट्रवादी विचारधारा से जुडे लोगों के खिलाफ हिंसक व दमनात्मक कार्रवाई की जा रही है। केरल में अब तक 250 से अधिक और केवल कन्नूर जिले में संघ परिवार से जुड़े 82 कार्यकर्ताओं की निर्मम हत्या हो चुकी है। वर्तमान केरल सरकार हमलावरों के खिलाफ  कानूनी कार्रवाई करने की बजाय उन्हें संरक्षण प्रदान कर रही है और निर्दोष राष्ट्रवादी लोगों को झूठे मुकदमों में फंसाकर जेलों में ठंूसा जा रहा है। धरने को संबोधित करते हुए नगर परिषद के चेयरमेन दर्शन नागपाल, राष्ट्रीय सुरक्षा मंच के प्रांत उपाध्यक्ष डॉ. वीरेंद्र सिवाच, एम.एम. कॉलेज प्रबंधन समिति के उपप्रधान सतपाल अरोड़ा, आर.एस.एस. के जिला कार्यवाह कीर्ति कुमार ने केरल में घट रही घटनाओं की कड़े शब्दों में निंदा करते हुए हत्या के दोषी लोगों को तुरंत गिरफ्तार करने की मांग की। धरने में बार एसोसिएशन के प्रधान संजय तनेजा, वेश्य सभा के जिला प्रधान वेद प्रकाश गर्ग, अरोड़वंश सभा के संरक्षक मथरा दास मोंगा, भाजपा के जिला प्रधान वेद फुलां, नगर प्रधान राजेंद्र कुमार, धर्म जागरण मंच के सरदार गोविंद सिंह, आर.एस.एस. हिसार विभाग के कार्यवाह बजरंग गोदारा,

प्रशासनिक अधिकारियों को ज्ञापन देते सामाजिक संगठनों के पदाधिकारी।

जिला कार्यवाह कीर्ति कुमार, नगर संघचालक गुरबख्श मोंगा, सेवा भारती के जिला प्रधान अशोक धमीजा, प्रापर्टी डीलर एसोसिएशन के प्रधान घनश्याम आनंद, नायक सभा के  जगदीश नायक, सुल्तान सिंह सहित अनेक संगठनों व संस्थाओं के प्रतिनिधि उपस्थित रहेे। धरने के बाद उपस्थित संगठनों के कार्यकर्ता रोष प्रदर्शन करते हुए लघुसचिवालय पहुंचे जहां उन्होंने एसडीएम को राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन  सौंपा। ज्ञापन में केरल में स्थिति को और अधिक बिगडऩे से रोकने के लिए व शांति बहाली के लिए राष्ट्रपति से केरल में राष्ट्रपति शासन लगाने की मांग की गई। वहीं जींद जिले में भी लोकतंत्र व सामाजिक संगठनों द्वारा केरल में स्वयंसेवकों, राष्ट्रवादी विचारकों, माकपा सरकार के राजनीतिक विरोधियों व हिन्दू संगठनों के कार्यकर्ताओं के खिलाफ  हिंसक हमलों के विरोध में शहर में विशाल

कैथल में धरने पर बैठे सामाजिक संगठनों के सदस्य।

प्रदर्शन किया और उपायुक्त के माध्यम से राष्ट्रपति को ज्ञापन भेजकर इन हमलों को रोकने और इन हमलों के शिकार लोगों को मुआवजा एवं पुनर्वास में मदद करने की मांग की। लोकतंत्र बचाओ मंच जींद के संयोजक सुशील शास्त्री ने कहा कि केरल में लोकतंत्र व मानवता विरोधी नरसंहारी हमले लगातार जारी हैं। खुद केरल के मुख्यमंत्री के संरक्षण में माकपा के नरसंहारी गुंडों ने केरल में अपने राजनीतिक विरोधियों के खिलाफ  हिंसा का ऐसा तांडव मचा रखा है कि जिससे चारों ओर भय व डर का माहौल बना हुआ है। खुलेआम आर.एस.एस. तथा माकपा सरकार विरोधी विचारधारा रखने वाले कार्यकर्ताओं की हत्याएं हो रही हैं।  सारा देश केरल की इन घटनाओं से क्षुब्ध और आहत है। इन घटनाओं के विरोध में लोकतंत्र बचाओ मंच के सदस्यों ने जींद के नेहरू पार्क से लेकर लघु सचिवालय तक विशाल प्रदर्शन किया। इस प्रदर्शन में हजारों की संख्या में राष्ट्रवादियों ने भाग लिया और केरल सरकार के खिलाफ  नारेबाजी की। इस प्रदर्शन में बड़ी संख्या में महिलाओं व युवाओं ने शिरकत की। प्रदर्शनकारी भारत माता की जय, वन्दे मातरम् का उदघोष कर रहे थे। इस प्रदर्शन में स्वदेशी जागरण मंच, सेवा भारती, भारतीय मजदूर संघ, भारतीय किसान संघ, भारत विकास परिषद्, वनवासी कल्याण आश्रम, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ, भारतीय जनता पार्टी, विश्व हिन्दू परिषद्, अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद्, आरोग्य भारती, भाजपा किसान मोर्चा, भाजपा महिला मोर्चा, भाजपा युवा मोर्चा, बेटी बचाओ अभियान संस्था, घुमन्तू अर्धघुमंतू विमुक्त संघ, अधिवक्ता परिषद् ने भाग लिया। गुरुग्राम में केरल में निरंतर हो रही राष्ट्रवादी लोगों की हत्याओं और हमलों के विरोध में बुधवार को हजारों लोग सड़कों पर उतरे। लोगों में इस बात को लेकर गुस्सा था कि केरल की माक्र्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी की सरकार हमलावरों पर लगाम लगाने की बजाय उनको बचाने में लगी है। गुरुग्राम के लघु सचिवालय पर एकत्रित होकर धरना देने  वाले लोगों ने एक स्वर में चेतावनी दी कि यदि वहां की सरकार ने हालात नहीं सुधारे तो पूरे देश से लोग केरल में जाकर सरकार के विरोध में हुंकार भरेंगे। हिंसक घटनाओं के विरोध में गुस्साए लोगों ने जमकर नारेबाजी की। कम्युनिस्ट सरकार मुरदाबाद, भारत माता जिंदाबाद के नारों के बीच लोग लघु सचिवालय के अंदर पहुंचे और जिला प्रशासन के माध्यम से राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन दिया गया, जिसमें मांग कि गई कि केरल में हो रही ऐसी घटनाओं को लेकर राष्ट्रपति हस्तक्षेप करें और राष्ट्रविरोधी गतिविधियों में शामिल लोगों पर कठोर कार्रवाई करें। विश्व हिंदू परिषद के जिलाध्यक्ष बह्मप्रकाश, अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के विभाग संयोजक मयंक निर्मल, निस्वार्थ कदम के महासचिव अरविंद सैनी आदि अनेक धार्मिक व सामाजिक संगठनों के प्रतिनिधियों ने भी धरने का संबोधित किया और राष्ट्रविरोधी ताकतों के विरोध में एक आंदोलन शुरू करने की अपील की। गुडगांव की सीटीएम अलका चौधरी ने ज्ञापन लेते हुए आश्वासन दिया कि ज्ञापन को राष्ट्रपति तक पहुंचा दिया जाएगा। हिसार जिले में भी केरल में माक्र्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी की सरकार आने के बाद से राष्ट्रवादी विचारकों, माकपा सरकार के राजनीतिक विरोधियों एवं हिन्दू संगठनों के कार्यकर्ताओं के खिलाफ  हिंसक हमलों के विरोध में लोकतंत्र बचाओ मंच तथा सामाजिक संगठनों द्वारा शहर में प्रदर्शन किया गया। प्रदर्शन के बाद उपायुक्त के माध्यम से महामहीम राष्ट्रपति  के नाम ज्ञापन भेजा गया। लोकतंत्र बचाओ मंच, हिसार के संयोजक पवन कौशिक ने बताया कि आर.एस.एस. व माकपा सरकार विरोधी विचारों के कार्यकर्ताओं की हत्याएं व हमलों की घटनाएं आए दिन हो रही हैं। इसके विरोध में शहर में प्रदर्शन किया गया। प्रदर्शन में स्वदेशी जागरण मंच, सेवा भारती, भारतीय मजदूर संघ, भारतीय किसान संघ, भारत विकास परिषद्, वनवासी कल्याण आश्रम, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ, भारतीय जनता पार्टी, भारतीय शैक्षणिक संघ, विश्व हिन्दू परिषद्, अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद्, विवेकानन्द विचार मंच (जी.जे.यू.), पंचनद हिसार, भारतीय शिक्षण मण्डल, आरोग्य भारती, मिन्नी बैंक कर्मचारी संघ हिसार, राष्ट्र सेविका समिति, एजुसैट चौकीदार एंड पार्ट टाईम कर्मचारी संघ, एच.एम.आर.ए., विजिंग संस्थान ठेका कर्मचारी संघ, हरियाणा, भाजपा किसान मोर्चा, भाजपा किसान मोर्चा, भाजपा महिला मोर्चा, भाजपा युवा मोर्चा, बेटी बचाओ अभियान संस्था, विवेकानन्द विचार मंच (एच.ए.यू.), घुमन्तू अर्धघुमंतू विमुक्त संघ, अधिवक्ता परिषद् के सदस्यों ने भाग लिया। फरीदाबाद जिले में भी केरल की माकपा सरकार के शासनकाल में हिन्दू संगठनों के विरुद्ध हिंसक और जानलेवा हमलों में हुई बेतहाशा वृद्धि के विरोध में प्रदर्शन किया गया। इस प्रकार प्रदेश के सभी जिलों में केरल की वामपंथी सरकार के विरोध में प्रदर्शन किए गए और राष्ट्रपति को ज्ञापन भेजकर पीडि़त परिवारों को न्याय दिलवाने की गुहार लगाई गई।

editor1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *