किसान को शोषण मुक्त करने के लिए लाभकारी मूल्य जरूरी: भारतीय किसान संघ

विश्व संवाद केंद्र करनाल – तरावड़ी(करनाल)आज भारतीय किसान संघ करनाल  द्वारा तरावड़ी में एक किसान पंचयात का आयोजन किया गया। जिसकी अध्यक्षता भारतीय किसान संघ के विभाग सयोंजक सरदार सूरत सिंह गोराया ने की, इस किसान पंचयात में मुख्य अतिथि रहे भारतीय किसान संघ के प्रदेश महामंत्री वीरेंद्र बढ़खालसा ने कहा की देश की आजादी के समय से ही इस देश की संसद में बैठने वाले और सभी राजनैतिक नेता गण अपने आपको किसान का बेटा व् किसान हितेषी कहते रहे हैं लेकिन अचरज की बात ये हैं की किसान की हालत आज भी चिंता जनक बनी हुई हैं और किसान की ऐसी हालात यही संकेत करती हैं की राजनैतिक लोगो ने किसानो का शोषण ही किया हैं। इसलिए आज अगर किसान को उन्नति की राह पकड़नी हैं तो सबसे पहले संगठित होना होगा, और अपनी लड़ाई खुद लडनी होगी। इसलिए किसान संघ का नारा है की हर किसान अपना नेता हैं। किसान को उसकी फसल की लागत के आधार पर लाभकारी  मूल्य मिले। लाभकारी मूल्य पाने के लिए पुरे देश में एक प्रभावी आंदोलन की आवश्यकता हैं। जिसको भारतीय किसान संघ जल्द ही शुरू करने वाला हैं

Bhartiya-kisan-sangh

पंचायत में प्रान्त जैविक खेती प्रमुख श्री रामकिशन आर्य ने कहा की भूमि, किसान व् पूरी मानव जाति के स्वास्थ को ठीक रखने के किये समय की आवश्यकता है की किसानों को जैविक खेती की और लौटना पड़ेगा। जिसके खेती का खर्च तो कम होगा ही साथ साथ किसान का लाभ भी बढेगा। पंचयात में भारतीय किसान संघ के प्रदेश कोषाध्यक्ष श्री सुरेन्द्र संधु ने कहा की  भारतीय किसान संघ भारत में किसानो का सब से बड़ा संगठन  होने के साथ , अपनी सामाजिक जिम्मेदारी निभाने के लिए पुरे देश में एक करोड़ पेड़ लगाने का काम कर रहा हैं

 

editor1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *