आने वाली पीढिय़ों को जहर से बचाना है तो प्राकृतिक खेती ही है विकल्प

निंगानिया में पांच दिवसीय कार्यषाला का समापन समारोह
रायपुररानी के निकट षाहजहाँपुर में स्थित निंगानिया विद्या मन्दिर में चल रहे पांच दिवसीय जीरो बजट प्राकृतिक कृशि कार्यषाला का समापन हुआ, जिसमें हलका कालका की विधायक लतिका षर्मा ने मुख्यातिथि के तौर पर षिरकत की। पदमश्री से सम्मानित सुभाश पालेंकर ने इस पांच दिवसीय कार्यषाला में मौजूद किसानों को कम लागत में अधिक उत्पादन लेने के लिए प्रषिक्षण दिया। पालेकर ने बताया कि जहरमुक्त भोजन, स्वच्छ जल, भूमि, पर्यावरण प्रत्येक व्यक्ति का जन्मसिद्ध अधिकार है, लेकिन हमारा यह अधिकार हमसें उस विनाषाकारी, षोशणकारी, अमानवीय, अवैज्ञानिक और खतरनाक हरितक्रांति ने हमसे छीन लिया है। यदि हर किसान इस विनाषलीला से बचा रहे यह वसुंधरा पुनष्च: सुजलाम् सुफलाम् हो, किसान और षहरी उपभोक्ता दोनों ही आत्महत्या से बचे रहें, आनेवाली नस्लें सुखी समृद्ध हों तो इसका केवल एक ही उपाय है और वह है प्राकृतिक खेती। कार्यषाला में विधायक लतिका ने किसानों से प्राकृतिक खेती अपना कर अपना खर्चा तथा समाज को बचाने का आह्वान किया। विद्यालय के चैयरमैन सुरेन्द्र यादव ने आए हुए सभी किसान को इस कार्यषाला से प्राप्त की गई जानकारी से दूसरे किसानों को भी जागरूक करने का आह्वान किया।

editor1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *