अधर्म पर धर्म की विजय है, विजय दशमी – सुधीर कुमार

rtk-0rtk-1
विश्व संवाद केंद्र ,रोहतक 11 अक्टूबर 2016 विजय दशमी उत्सव पर स्थानीय हुडा सिटी सेंटर पार्क में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के 91 वें स्थापना दिवस के रूप में मनाया गया। इस बार स्वयंसेवक अर्से के बाद नए गणवेश के साथ नजर आए। 90 साल बाद खाकी निक्कर की जगह पेंट ने ली। घोष वाहिनी(गाजे-बाजे) के साथ शहर के दुर्गा कालोनी प्रेम नगर व सोनीपत रोड़ विकास नगर से निकले पथ संचलन ने सबको आकर्षित किया। इससे पूर्व कार्यक्रम के शुभारंभ में ध्वजारोहण एवं प्रार्थना के साथ आगाज हुआ। संघ पदाधिकारीयों ने भारत माता, संघ के संस्थापक डॉ. केशवराव बलीराम हेडगेवार तथा द्वितीय सरसंघ चालक माधवराव सदाशिवराव गोलवलकर जी के चित्रों के  समक्ष पुष्प अर्पित कर कार्यक्रम का विधिवत शुभारंभ किया। भगवान श्रीरामचंद्र के चित्र के सम्मुख शस्त्र पूजन किया गया। मुख्य वक्ता संघ के प्रांत प्रचारक श्री सुधीर जी का जिले भर से आए स्वयंसेवकों को उद्बोधन सुनने को मिला। जिसमें उन्होनें अर्धम पर धर्म की जीत, बुराई पर अच्छाई की जीत तथा श्रीरामचंद्र जी व महाराज छत्रपति शिवाजी के दृढ़ संकल्पों का विस्तार से वर्णन किया। सैनिकों को सम्मान दिलाने के प्रति सारा समाज एकजुट हो जाता है वैसे ही समाज के अन्दर फैली बुराईयों को समाप्त करने के लिए सभी संगठन व समाज के व्यक्तियों को आगे आना पड़ेगा, तभी भारत परम वैभव को प्राप्त करेगा। समाज के अन्दर फैल रहे नशे व नारी के प्रति हो रहे अत्याचार पर प्रकाश डाला और अंत में भारत माता का संबोधन कर अपनी वाणी को विराम दिया। कार्यक्रम में रोहतक जिले के माननीय जिला संघचालक देवेन्द्र जी के नेतृत्व में निकले इस संचनल में जिले के नए पुराने सभी स्वयंसेवक व गणमान्य लोग उपस्थित थे।

editor1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *