अच्छा एंकर बनने के लिए भाषा पर पकड़ जरूरी : सांवल

विसंके, कुरुक्षेत्र। केयू के जनसंचार एवं मीडिया प्रौद्योगिकी संस्थान व विश्व संवाद केंद्र के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित पत्रकारिता कार्यशाला के तीसरे दिन बुधवार को इलेक्ट्रॉनिक मीडिया एवं डॉक्यूमेंट्री व शॉर्ट फिल्म मेकिंग विषय पर चर्चा की गई। टीवी पत्रकार रोहित सांवल व सेंट्रल यूनिवर्सिटी बठिंडा से डॉ. परमवीर सिंह ने व्याख्यान दिया। रोहित सांवल ने न्यूज चैनल से जुड़े विभिन्न पक्षों को प्रतिभागियों के सामने रखा। उन्होंने कहा कि इलेक्ट्रॉनिक मीडिया एवं टीवी को समझने के लिए पहले हमें अपने आस-पास की जानकारी होनी चाहिए। समाज के बारे में विभिन्न दृष्टिकोण के पहलुओं को समझना होगा। यहां हर सैकेंड हर मिनट मूल्यवान होता है। टीवी पर बोलने के लिए सोच को संतुलित रखें एवं विषय की पूरी जानकारी के साथ ही अपना पक्ष रखें। रोहित सांवल ने बताया कि इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में पर्दे के पीछे का भी एक अलग ही मजा है। टीवी की जान डेस्क पर बैठे लोग ही हैं। एक अच्छा एंकर बनने के लिए भाषा पर पकड़ होनी चाहिए। साधारण बोलचाल एवं शुद्ध भाषा का प्रयोग करना चाहिए। हर व्यक्ति में एक खूबी है, जरूरत है कि उन खूबियोंं को पहचाना जाए। उन्होंने कहा कि न्यूज रूम में भी विभिन्न तरह के व्यक्तित्व के लोग मिलेंगे।
अच्छाई-बुराई हर जगह है लेकिन हर स्थिति में सामंजस्य बैठाना और निष्पक्ष होकर तथ्यों के आधार पर खुद को साबित करना एक पत्रकार का काम है। उन्होंने टीवी प्रोग्राम के प्री-प्रॉडक्शन, पोस्ट प्रॉडक्शन, स्क्रिप्ट राइटिंग, एडिटिंग, ऑडियो-वीडियो, लाइटिंग, कैमरा मूवमेंट, एंगल और शॉट के बारे में भी बताया। उन्होंने कहा कि खबर का एंगल डेस्क पर निर्धारित होता है। वहीं कैमरा फेस करना और चलाने में अंतर है। मौके पर विश्व संवाद केंद्र के सचिव राजेश, क्षेत्र प्रचार प्रमुख अनिल कुमार, डॉ. मेहर सिंह, डॉ. कुलदीप मेहंदीरत्ता, कार्यशाला संयोजक डॉ. मधुदीप सिंह, सहसंयोजक डॉ. बंसीलाल, मोहित, राघव, कृष्ण, राहुल, अमित और डिंपल मौजूद रहे।

 

editor1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *